Monday, August 3, 2009

Shayari

जिंदगी के सफर में रुकते हो चलते जाते हो,
किसी की दुनिया बनते हो ,
किसी को छुकर गुज़र जाते हो,
हर किनारा मंजिल तो नही होता,
हर मंजिल पर रास्ता ख़तम तो नही होता ...

*******

चाहे भुला दे हम हर गम,
निशान पीछे छुट ही जाते हैं,
जैसे ही लगता है संभल गए हैं हम,
फिर ठोकर खाकर गिर जाते हैं ...

*******

तुम्हे ना मिले कभी,
यह दुआ हम रोज़ करते हैं,
फिर सोचते हैं इन यादों से,
क्या हम ही दूर भागते हैं ?

1 comment:

MangoMan/Bunty said...

har manzil pe rasta nahi hota...made me think a lawt!!

Disclaimer & Copyright Info :

This site and the content within represent personal opinions. Unless stated otherwise, all site content is copyright © 2007 -2009 Aditi W. Singh. All Rights Reserved.

Open to requests for a personal touch to your own greetings.

Do NOT Copy

Page copy protected against web site content infringement by Copyscape